भगत सिंह

October 08, 2016






ये सपूत भारत माँ के
अकड़ किसी की नहीं सहते
सच्चे सूरमे पक्के देशभक्त
भगवान भरोसे नहीं रहते 

मंजर अपनों की मौत वाला
दौड़े आँखों में बन लाल लहु
फिर हथियार उठाना पड़ता है
तब होश ठिकाने नहीं रहते

तू शेर है भारत माता का
दुश्मन के घर घुस वार करे
जो पीठ के पीछे ना मारे
सीधा सीने पर ही प्रहार करे

देख सामने मौत खड़ी
जो क्षण भर भी ना घबराये
तब इंकलाब का नारा दे
भारत की जय जयकार करे

तू राज दिलों पर करता है
तेरा दुनिया में है नाम बड़ा
जो तेरा रुतबा बतलाएं
इन नोटों की औकात नहीं

दीपआजादी मुफ्त नहीं
बड़ा मोल चुकाना पड़ता है
खुली हवा में जीने को
हथियार उठाना पड़ता है 

                                                प्रदीप सोनी 

You Might Also Like

0 comments

Video

Google +