बदल जाते है

September 22, 2016




निकल जाये जब मतलब अपना 
लोगो के अकसर ख़्यालात बदल भी जाते है 

दौड़ते है हौसले जब हाथों की रगों में 
लकीरे, किस्मत और औकात बदल भी जाती है 

बदलने पड़ते है राह, राही, राहगीर भी 
मुश्किलों में मक़सद, मंजिल, भगवान बदल भी जाते है 

जाते नहीं कुछ लोग भुलाये 
चाहे दिन, महीने चाहे साल बदलते जाते है 

बदलते नहीं 'दीप' जो खास हुआ करते है  
वरना साथ समय के मौसमअपने और सरकार 
बदल भी जाती है  

                                                  प्रदीप सोनी 

You Might Also Like

0 comments

Video

Google +