जो दौर गवाँए बैठे है

September 06, 2016





थे शौक नये अरमान बहुत
बसते थे दिल में ख्वाब बहुत
बचपन वाले दिनों का
वो इतवार भुलाए बैठे है

आया फिर से याद वही
जो दौर गवाँए बैठे है

कभी कच्चे पक्के रास्तो में
कभी रेल बसों के धक्को में
चार जून की  रोटी खातिर
दिन रात भुलाए बैठे है

आया फिर से याद वही
जो दौर गवाँए बैठे है

इस बसते शहर बेगाने में
इन चेहरे सब अनजाने में
वो होली और दिवाली के
त्यौहार भुलाए बैठे है

आया फिर से याद वही
जो दौर गवाँए बैठे है

ना गुजरा वक़्त भी मुड़ता है
ना टुटा दिल भी जुड़ता है
दिए दुनिया के ज़ख्मो पर
मरहम वक़्त की लगाये बैठे है

आया फिर से याद वही
जो दौर गवाँए बैठे है 

यहाँ अपने भी बदल जाते
वफादार भी छल जाते
“दीप” बदलती दुनिया से
सब मोह छुटाए बैठे है

आया फिर से याद वही
जो दौर गवाँए बैठे है 
  
            प्रदीप सोनी  

You Might Also Like

0 comments

Video

Google +