ना चाहिये

October 24, 2016





रपिये हो या ताकत का
णा जोर दिखाणा ना चाहिये
कदे पासे उलटे पड़ जा से
ज्यादा अकड़ में आणा ना चाहिये

राज हो या हो यारी कोई
हर किसे ते बताणा ना चाहिये
रोला हो या प्यार कोई
घरक्या ते छुपाणा ना चाहिये

जमीन हो या गाय का
कदे मोल लगाणा ना चाहिये
ये माँ बराबर होवे से
इन्हें बेच के खाणा ना चाहिये

किसे बोदे और गरीब का 
कदे दिल दुखाणा ना चाहिये
औरा की मजबूरी का
णा फायदा ठाणा ना चाहिये

दगाबाज और दुश्मन गेल्या
बैठ के खाणा ना चाहिये
कन्या पे अर नारी पे
कदे हाथ उठाणा ना चाहिये

‘दीप’ चाहे हो हाल बुरे
पर किसे ते बताणा ना चाहिये
ये जग में हांसी करवा दे
किते दुखड़ा गाणा ना चाहिये 

   प्रदीप सोनी 

You Might Also Like

0 comments

Video

Google +