मंगलवार और मंदिर

April 11, 2017


 " अरे यार  गोपू आज का मैच तो हरवा दिया यार मोटा सेंटर लग जाता है और जो भी बोल आये सीधा बहार मार दे और वो लम्बू नेटर की औलाद सारी बोल नेट में ही दे मारे. खामखा हरवा दिए आज."






अंकल 11 रुपए का दो जगह  गरमा गरम प्रसाद दे दो

मैं: अरे यार आज तो बड़ी लंबी लाइन है  थोड़ा लेट हो गए अपन
गोपाल: हा यार


यह वाकया है उन दिनों का जब हम स्कूल में हुआ करते थे तब मैं और मेरा दोस्त गोपाल अक्सर हर मंगलवार को हनुमान जी के मंदिर जाया करते. तकरीबन 7:00 से 7:30 के बीच में हम लोग हनुमान जी से अपने गुनाहों की माफ़ी मांगने पहुंचते. लाइन अक्सर लंबी हुआ करती क्योंकि पाप धोने के लिए बहुत से प्रसाद नाम का साबुन लिए खड़े रहते.


बड़े सालों से चल रहा है हमारा यह सिस्टम


मैं: अरे गोपाल वह देख अपनी क्लास की मोटी
गोपाल: अरे हां भाई
मैं: देखना  जरूर देखेगी
गोपाल: ना  देखा यार
मैं: कोई ना भाई तु मन मत मार और लड़कियां दिखाऊंगा  मेरे भाई को टेंशन मत ले तू.
गोपाल: अरे पागल है क्या यार अपन मंदिर आये हैं भगवान पाप देंगे लड़कियों को मत देखा भी भगवान को याद कर बस
मैं: सही कह रहा है भाई तू तूने तो मेरी आँखे खोल दी " जय हनुमान ज्ञान गुण सागर जय कपीस... "



दूर से कोई भाई साहब ने जयकारा लगाया “ बोल सिया वर राम चंद्र की …... जय”  "बोल पवनसुत हनुमान की….. जय.


फिर से माहौल कुछ सांस्कृतिक और आध्यात्मिक हुआ.


मैं: गोपाल प्रसाद गरम है ना ??
गोपाल: हाँ भाई मेरे तो हाथ भी जल गए
मैं: कोई न घर जाकर कोलगेट लगा लियो
मैं: भाई उसको कितने नंबर
गोपाल: भाई दो नंबर
मैं: और वह हरे सूट वाली को
गोपाल: भाई उसको पुरे तीन
मैं: ना यार तीन ज्यादा हो जाएंगे
गोपाल:अरे दे दे कोई बात नहीं यार
मैं: चल ठीक है  गोपाल तू  कह रहा है तो  देता हूं वरना वो है नहीं दो नंबर से ज्यादा
मैं: अरे यार गोपाल अपन मंदिर आए हैं भगवान पर कंसंट्रेट कर वैसे ही अपने खाते खराब चल रहे हैं
गोपाल:हाँ भाई तू सही कह रहा है.

आध्यात्मिक भाईसाहब: बोल बजरंग बलि महाराज की जय
मैं: जय
गोपाल: जय


मैं: अच्छा गोपाल अब लास्ट बता उस जींस उसको कितने नंबर
गोपाल: मेरी तरफ से 4.00
मैं : मेरी तरफ से 3:00
मैं: ना यार गोपाल तू हमेशा ज्यादा नंबर देता है
गोपाल: चल कोई ना भाई यार

मैं: चल अब मंदिर में आ गए अब कोई लडकियों की बात नहीं करेगा 
गोपाल: हाँ बिलकुल भाई 

मैं: गोपाल आईडिया
गोपाल: हां बता भाई
मैं: एक काम करते हैं अभी ढंग से देख लेते है और नंबर है और भगवान से एक ही बार में माफी मांग लेंगे
गोपाल: अरे भाई बहुत अच्छा आईडिया है तो


मैं: अच्छा वह लाल वाली के
गोपाल:उसके दो नंबर भाई
मैं और वह पिंक वाली के
गोपाल: पूरे 3


टन टन टन


आध्यात्मिक भाईसाहब: " बोल बजरंग बलि की जय "
मैं: जय
गोपाल: जय  

मैं: अरे मोटी अपने पापा के साथ आई है
गोपाल: हां लग तो रहा है भाई



मैं: चल बता आज हनुमान चालीसा ही करें या बजरंग बाण भी कर लें
गोपाल: अरे यार अभी सब्जी लेने भी जाना है खाली हनुमान चालीसा कर के ही घर चलते हैं


मैं: “  हे भगवान हम भोले-भाले बच्चों को क्षमा कर देना और इतनी शक्ति दो कि मोह माया से परे हो पाए जय हनुमान
जय हनुमान जय हनुमान जय सियाराम”

और आखिर हनुमान चालीसा पढ़कर मुर्गे की मुद्रा में झुकर उठने पर ऐसा लगता था जैसे सारे पाप धुल चुके है ओर कुछ इस कदर निकलते थे हमारे बचपन के मंगलवार

" कम्बखत वो भी दिन थे और हम भी हरामी थे बाकि सभी को हवा में प्रणाम "

फोटो सौजन्य: https://www.facebook.com/rewaricity/

You Might Also Like

0 comments

Video

Google +