Skip to main content

Posts

Showing posts from May, 2017

GURUDWARA SRI GURU SINGH SABHA

भईया एक चाय देना !!! और सड़क पर जाती गाडियों को फ़िल्मी अंदाज में देखते हुए चाय का आनंद लेना शुरू किया. सूरज भी थोडा गरमाया हुआ है. वैसे चाय पीना ठीक तो नहीं पर वही है ना हम भी नशेड़ी हो चले है इसके जब तक ये अंदर ना जाये तब तक हाथ पैर काम ही नहीं करते.
फिर अपनी साइकिल उठा हम निकल लिए रविवार की उन सुनसान सडको पर. खाली सड़के देख कर काफी खुशी सी होती है ऐसा लगता है जैसे मुदतो बाद कोई रेलवे फाटक खुला मिला हो. सड़क के साइड में लगे पेड और रहो में बीछे हुए फूल एकदम आनंद का अनुभव देते है जैसे ठहर जाता है समय किसी के इंतज़ार में. प्रकृति को गौर से निहारना भी एक कला है जो कभी जल्दी में नहीं की जा सकती.
रेड लाइट पर भीख मांगते लोगो को देख अक्सर भरमा जाता हूँ समझ नहीं आता ये सही में मजबूर है या फिर एक्टिंग ही इतनी जबरदस्त है. तभी पीछे से होर्न बजा “अरे चल रहा हूँ यार हवाई जहाज थोड़ी है”
मैं धीरे धीरे अपनी मंजिल के नजदीक पहुँच रहा था आसमान में लहराता वो केसरिया रंग का झंडा किसी शूरवीर की तरह हवाओ का सामना कर रहा है और अपनी शोभा बढ़ा रहा है. आस पास उगी गगनचुम्बी इमारतों के बीच दूर से दिखती ये सफ़ेद रंग की ईमा…

तीज

“ नायक नहीं खलनायक हूँ मैं जुल्मी बड़ा दुःख दायक हूँ मैं ”कही दूर दराज इलाके से आती ये तेज ध्वनि कानो में पड़ रही थी. फराटे पंखे की तीव्र आवाज भी उसे रोक पाने में अशक्षम थी. जैसे ही आंखे खोली तो नजारा भोर का था. तभी एकदम दिमाग में भयंकर प्रतिक्रिया हुई. जैसी तब होती है जब कोई गाल पे चांटा मार दे.


“ओए खड़ा हो दिन निकल गया” टिंकू भी फटा फट खड़ा हुआ और हम दोनों कमरे में भागे और तुरंत प्रभाव से स्पीकर और VCD प्लयेर लेकर छत पर भागे साला जल्दी जल्दी में पॉवर केबल तो नीचे ही रह गयी “ जा टिंकू भाग के ला ”
गोली की रफ़्तार से सारा काम समेट मारा “बता टिंकू कौन सा गाना लगाऊ” “मित्रा दी छतरी ते उड़ गयी” लगा दे
गाना बज गया फिर तबियत से आसमान की तरफ देखा “आज तो माँ कसम स्वाद आने वाला है बड़ा रंगीन है आसमान”कम्बखत पूरा मोहोल्ला छत पर था. आज पता लग रहा है हमारे महोल्ले में कितने लोग रहते है. मतलब दुनिया भर के लोग भरे पड़े है यार. कल की बारिश के बाद आसमान पर छाई काली घटाए इससे अच्छा मौसम पतंग उड़ने के लिए हो ही नहीं सकता. कम्बखत एकदम रोमेंटिक है. बस कोई पकोड़े ले आये अदरक वाली चाय के साथ.


तभी पीछे से किसी सज्जन व्यक्…