लेपाक्षी ( हिन्दूपुर )

July 31, 2017


बेंगलुरु से लेपाक्षी जाने के लिए आपको एअरपोर्ट रोड से अनंतपुर की तरफ जाना होगा. राष्ट्रीय राजमार्ग होने के कारण आपको किसी प्रकार की दिक्कत तो नहीं होगी मगर आप दिल या जेब से कमजोर है तो मन भारी करके दो बार टोल टैक्स भर दे. बस और बाइक से जाने वाले चिंता ना करे.


बेंगलुरु से तक़रीबन 110 किलोमीटर दूर आंध्र प्रदेश के हिन्दुपुर जिले में स्तिथ इस छोटे मगर प्राचीन शिव मंदिर को लेपाक्षी मंदिर के नाम से जाना जाता है. दक्षिण भारत के अन्य मंदिरों के तरह इसे भी पत्थरों पर शानदार तरीके से तराशा गया है.


यहाँ पहुँचने पर हमे भीड़ तो कोई ख़ास नहीं दिखी. वहा ठीक उसी प्रकार के श्रद्धालुओं का ताता था जैसे की हम घुमने आये थे फोटो खीचने-खिचाने.


 किसी भाई ने बताया की यहाँ लोगो को आना जाना कम ही रहता है कारण है इसका गाँव में स्तिथ होना और ऊपर से टूरिस्ट विभाग की तरफ से भी अनदेखी. मंदिर में प्रवेश करते ही आपको सामने भगवान की मूर्ति दिखी. 


''मंदिर का इतिहास जानने के लिए कृपया गूगल बाबा से पूछ ले. 
हम तो मोटा मोटा हिसाब रखते है. शिव मंदिर है और जय भोले की.''




मंदिर का स्वरुप पुरे तरीके से पहाड़ पर तराशा गया है. जो की अपने आप में बेहतरीन शिल्पकारी का जीता जगता नमूना है. आजकल वाले कलाकारों से नहीं बनने वाले ऐसे डिजाईन. लिखवा के ले लो. मंदिर के पीछे बना भगवान् शिव का विशाल शिवलिंग और उसपर नाग देवता की छाया अपने आप में शिल्पकारी का बहतरीन नजराना है. शुद्ध हिंदी ज्यादा तो नहीं हो रही ना.... ???

 
भगवान माफ़ करे मगर ईमानदारी से मंदिर पौराणिक मंदिर होने की बजाये एक टूरिस्ट स्पॉट ज्यादा लगता है. हम जैसे लोग यहाँ केवल फोटो खिचाने आते है जैसा की यहाँ दिखाई दे रहा था. साथ आये भाई ने बताया आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा अपने स्कूल पाठ्यक्रम में इस मंदिर पर पाठ भी पढाया जाता है.


मंदिर में दर्शन के बाद के बाद हम लोग खाने का जुगाड़ देखने लगे. तभी पास में बनी नंदी की शिला दिखाई दी. कहा जाता है ये नंदी शिवलिंग से सीधी दिखाई देती थी. जो अब लोगो के घर और मंजिल निर्माण के बाद देख पाना संभव नहीं है. इधर भी 2–4  फोटो के बाद हम लोग गंभीरता से खाने का जुगाड़ ढूँढने लगे.




खाने के बारे में मैं इतना ही कहना चाहूँगा की हमने 200 रुपे में 5 लोगो ने भेलपुरी, वडा, पकोड़े और चाय निबटा दी और स्वाद ऐसा की बंगलौर में तो लालटेन लेकर ढूँढने से भी ना मिले. पास में ही हिन्दुपुर का बड़ा बाजार है जहाँ आप फल सब्जी खरीद सकते हो. बाजार मे एक भुजिया और मिठाई की दुकाने भी है जंहा से आप भाती भाती की ताज़ा नमकीन भुजिया खरीद सकते है स्वाद भी मस्त होता है.


शाम के तक़रीबन 6 बजे अपन तो निकल लिए लेपक्षी की यादे और फोटो दोनों लिए अपने ठिकानो की तरफ और लौटते हुए वो डूबती शाम आई बारिश, पहाड़ो के वो मंजर, हाथ में ताज़ा भुजिया और गाड़ी में बजता “ना कजरे की धार ना मोतियों के हार” बस पता ही नहीं कौन सी दुनिया में ले जा रहा था.


और इसी के साथ वो रविवार की शाम ढल गयी. चलो फिर मिलते है फुर्सत में तब तक के लिए
“हवा में प्रणाम”


You Might Also Like

1 comments

  1. Bhai ko Hawa Mai pranam , lagta Hai lepakshi hokar ana padega

    ReplyDelete

Video

Google +