Top 10 Reasons to vote BJP

भारतीय जनता पार्टी वैसे तो कट्टर हिन्दू पार्टी मानी जाती रही है मगर बीजेपी द्वारा बीते 5 सालो में ऐसा कोई ठोस निर्णय या कदम नहीं लिया गया जिसके चलते वो हिन्दू वोटर्स को लुभा पाए. मगर फिर भी आज देश का माहौल भाजपा के पक्ष में खड़ा दिखाई दे रहा है इसी पर एक छोटा सा विश्लेषण.



1. दमदार नेतृत्व:

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई वाली भाजपा सरकार ने अखिल विश्व स्तर पर देश का नाम रोशन किया है. आज दुनिया भारत को थर्ड वर्ल्ड कंट्री की बजाय तेजी से उभरती महाशक्ति की तरह देख रही है और आज भारत विश्व में दुनिया के सबसे बड़े बाज़ार की तरह खड़ा है. ये केवल केंद्र सरकार के दमदार नेतृत्व की वजह से मुमकिन हो पाया है.



2. भ्रष्टाचार पर नकेल:

एक आम भारतीय होने के नाते मेरे लिए सीधे सीधे ये कह पाना की केंद्र में बैठी मोदी सरकार पाक साफ रही है गलत होगा मगर एक बात तय है की इस सरकार में भ्रष्टाचार का वो नंगा नाच नहीं हुआ जैसे पुरानी सरकारों में होता रहा है. GEM पोर्टल और ऑनलाइन टेंडर सिस्टम ने काफी हद तक भ्रष्टाचार कम किया है.



3. इन्फ्रास्ट्रक्चर बिल्डिंग:

अपनी पूर्वज सरकारों के ढीले ढाले रविये को तोड़ते हुए केंद्र की भाजपा सरकार ने इंफ्रास्ट्रक्चर बिल्डिंग पर काफी जोर दिया. चाहे वो NHAI द्वारा दिन में सैकड़ो किलोमीटर लम्बी बनती सड़के हो, मेट्रो ट्रेन का बढ़ता नेटवर्क हो या फिर धडाधड बनते पोर्ट और एअरपोर्ट. आज वो दौर जा चूका है जब रिश्वत देकर ठेका लेने वाले लोग घटिया माल चिपका कर काम निपटा दिया करते थे.



4.ट्विटरी  नेता और मंत्रालय:

मोदी सरकार के नेतृत्व में आती ही अचानक ट्विटर पर नेताओ और भारतीय मंत्रालयों की बाढ़ सी आ गयी और लोगो की परेशानियां सुलझाते नेता और मंत्रालय के लोग देखे जाना आम बात हो गयी. वीजा से लेकर रेल की बोगी ट्वीटर पर साफ़ होने लगी.


5.डिजिटल इंडिया:

डिजिटल इंडिया का जो उदेश्य था वो अपने राह चढ़ा या नहीं ये कहना तो अभी जल्दबाजी होगा मगर सरकारी वेबसाइटों और पोर्टल्स में जो क्रन्तिकारी बदलाव आया है वो किसी से छुपा नहीं GEM पोर्टल, भर्ती परीक्षा के आवेदन, जन्म प्रमाण पत्र, रेलवे टिकट बुकिंग या दुनिया भर के सरकारी दफ्तरों की मोबाइल एप्लिकेशन और तुरंत एक्शन ने सरकार को जनता के प्रति जवाबदेह बनाने का काम किया है.


6. विदेश निति:

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शुरुआत से ही अपनी विदेश यात्राओ के लिए विपक्ष के निशाने पर रहे और सही मायनो में उनकी यात्राओ का कोई ठोस प्रभाव अभी तक देखने को शायद नहीं मिला है. मगर उनकी छवि विश्व नेता के रूप में उभरी है इसमें कोई दो राय नहीं. अमेरिका, यूरोप और अरब देशो ने भारत को एक महा शक्ति के  रूप में पहचाना है. जंहा जंहा मोदी जी विदेश दौरों के लिए गए वंहा उन्हें उस रुतबे से ऊपर रखा गया जिस रुतबे पर आज से पहले के भारतीय प्रधानमंत्रियो को रखा जाता रहा है.


7.  राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी:

 विपक्ष द्वारा बीजेपी को आरएसएस की टीम बी कहा जाता रहा है. मगर असल में शक्तिमान ही गंगाधर है और गंगाधर ही शक्ति मान है. भाजपा की कार्यशैली में भी आरएसएस की पहचान साफ़ दिखाई पड़ती है. चाहे सवयंसेवक से प्रधानमंत्री बने नरेन्द्र मोदी हो या हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर या फिर उत्तर प्रदेश के योगी आदित्यनाथ या फिर कोई भी बड़ी नियुक्ति काफी हद तक संभव है की निर्णय नागपुर से आता हो.


8. रक्षा और आतंकवाद:

पुलवामा और उरी आतंकी हमले के जवाब में हुई एयर और सर्जरिकल स्ट्राइक्स ने देश के अन्दर आतंकवाद के खिलाफ पनपे गुस्से को काफी हद तक शांत करने का काम किया है वही भारत की आतंकवाद के खिलाफ नियत को जता दिया. भारतीय सरकारों की इक धड़े से चली आ रही कड़ी निंदा की प्रथा को तोड़ते हुए मोदी सरकार ने पकिस्तान में घुस कर आतंकवादियों पर कार्यवाही की. राफेल और S-400 सिस्टम की खरीद ने देश की रक्षा को मजबूत किया.



9. देशभक्ति की भावना:

आजादी के बाद से अब तक देश पर शासन कर चुकी कांग्रेस सरकारों से अगर तुलना की जाये तो भारतीय जनता पार्टी की सरकार ज्यादा देश भक्त प्रतीत होती है. दुश्मन के वॉर पर प्रतिवार हो या कोई सामाजिक या धार्मिक समस्या. केंद्र सरकार धर्म जात से परे गलत के खिलाफ सही कार्य में लगी रही चाहे राम रहीम मामला हो या लालू प्रसाद का जेल जाना. केंद्र में बहुमत और सभी तरह के पर्याप्त साधन होते हुए भी राम मंदिर ना बनवाना केंद्र सरकार के सामाजिक सद्भावना का प्रतिक है.



10. जोखिम भरे फैसले लेने की काबिलियत:

बीते 5 सालो में बीजेपी सरकार ने काफी ऐसे निर्णय लिए जो शायद किसी अन्य सरकार या गठबंधन सरकार के लिए परे की बात है. नोट बंदी, पाकिस्तान में घुस कर हमला करना या GST लागू करना ये कुछ ऐसे निर्णय रहे जिसके लिए सरकार का सामर्थ्यवान होना अति आवश्यक था. कुछ फैसलों में लोगो का आक्रोश और विरोध चरम पर रहा लेकिन सरकार द्वारा राष्ट्र हित को ऊपर रखाना एक बेहतर शासन का उदहारण है.


Comments